मैं जगदति दे लड़ लगी आ

मैं जगदति दे लड़ लगी आ मेरे तो गम भरे रेह्न्दे,
मैं जगदति दे लड़ लगी आ,
मेरी आसा उमीदा दे सदा भुटे हरे रेह्न्दे,

कदे भी लोड नहीं पेंदी मैनु दर दर तो मंगने दी,
मैं तेरे दरबार दी मंगति आ मेरे पल्ले भरे रेह्न्दे,
मैं जगदति दे लड़ लगी आ........

दवारे लखा दुनिया ते तेरे दरबार है सोना,
जेहड़े तेरे दर दे हो जांदे,
ओ ज़िंदगी विच खरे रेह्न्दे,
मैं जगदति दे लड़ लगी आ..........

यहाँ विच होर ना कोई मेरा,
मैनु बस तेरा सहारा है,
जेहड़े तेरे दर ते झुक जांदे,
ओ दुबड़े ना तरे रेह्न्दे,
मैं जगदति दे लड़ लगी आ.....

दुआवा रल करो सखियों मेरी किते माई ना रूस जावे,
जिह्ना दी माँ है रूस जांदी,ओ जूनदे जी मरे रेह्न्दे,
मैं जगदति दे लड़ लगी आ...........
download bhajan lyrics (50 downloads)