जोगी रत्नों दा वसदा शाहतलाईया

बाल सुनेहरी हथ विच चिमटा कनी मुंदरा पाइयां,
जोगी रत्नों दा वसदा शाहतलाईया

जिसते जोगी कर्म कमावे बेड़े भने लौंदा,
जिसदे सिर ते हथ रखदे मुहो मंगियाँ मुरादा पाउंदा,
रंग एह्दे विच रंग जो एह्दा कर लो किरत कमाईया,
जोगी रत्नों दा वसदा शाहतलाईया

विच गुफा दे विच बैठा जोगी चार युगा दा वाली
लेके आवे जो फर्यादा कदे न मुड दा खाली,
जिसदी फड ले बाह योगी फिर ओह्दियाँ होंन चडाईया
जोगी रत्नों दा वसदा शाहतलाईया

मोर दी करे सवारी ते रत्नों दी अख दा तारा,
नूर चेहरे ते कुदरत दा है दिल कश अजब नजारा
औना है घर जोगी ने नवनीत ने पलका बिछाईया
जोगी रत्नों दा वसदा शाहतलाईया
download bhajan lyrics (10 downloads)