असि बाबे दे लढ़ लगे नजारा लेना है

लोका दा कम है कहना दुनिया दा कम है कहना ते कहन्दे रहना है,
असि बाबे दे लढ़ लगे नजारा लेना है,

ना लोड जमाने दी किसे होर बहाने दी,
दर बाबे दे जाइये गल असल टिकना दी,
साढ़े लई बाबा रब ते कहन्दे रहना है,
असि बाबे दे लढ़ लगे नजारा लेना है,

गुड़ियाँ भी उडांदे हां सारे लोक उडांदे ने ,
कई क्तन न बैठे जेहड़े पेचे लौंडे ने,
चड्या बाबे दे छज ते चढ़या रहना है,
असि बाबे दे लढ़ लगे नजारा लेना है,

मैनु रंग सिंधुरी चदया है,
मैं लढ़ बाबे दा फड़्या है,
मैं की दसा की आखा मेरा काम कदे न अड्या है,
पाई बाबे ने पींग हुलारा लेना है,
असि बाबे दे लढ़ लगे नजारा लेना है,