गुरु रहमत से तर जायेगा

गुरु रहमत से तर जायेगा,
पार भव से उतर जायेगा.....

ज़रा सत्संग मे आ के तो देख,
शीश चरणो मे धर के तो देख,
तेरा जीवन संवर जायेगा,
पार भव से उतर जायेगा,
गुरु रहमत से तर जायेगा......

गुरु की सेवा जिसे मिल गई,
उसके मन की कली खिल गई,
उसका जीवन तो तर जायेगा,
पार भव से उतर जायेगा,
गुरु रहमत से तर जायेगा.....

खुश रहने की आदत बना,
सब जीवो का कर तू भला,
हर कोई तुझको ही चाहेगा,
पार भव से उतर जायेगा,
गुरु रहमत से तर जायेगा.......
download bhajan lyrics (193 downloads)