मेरी माता शाकुम्भरी देवी

मेरी माता शाकुम्भरी देवी ने मुझे पल में तार दिया,
मुझे पल में तार दिया मेरा हर काज सवार दिया
मेरी माता शाकुम्भरी देवी...

सब से पेहले जा के भूरा देव के दर्शन पाओ
पाके दर्शन शीश झुका के जीवन सफल बनाओ
ना देखे कोई छोटा बड़ा जी सब को प्यार किया
मेरी माता शाकुम्भरी देवी....

दूर दूर से चलके सवाली माँ के दर पे आते
बैठ के माँ के चरणों में जी दिल का हाल सुनाते
ना किया निराश किसी को माँ ने सब का उधार किया
मेरी माता शाकुम्भरी देवी......

सब कुछ दिया मोहित को और शिवांक को भी है तारा
दुखियो और गरीबो का माँ है शाकुम्भरी सहारा
मोहित वो आगे न बढ़ पाए जिसने हंकार किया
मेरी माता शाकुम्भरी देवी
download bhajan lyrics (380 downloads)