माँ की भगती में हो ध्यान

ओ माँ की भगती में हो ध्यान,
कर्म ते हटिये मत ना।।

पहला फल तन्ने कन्या मिलेगा,
घना तू पछतिये मत ना,
ओ माँ की भगती में हो ध्यान,
कर्म ते हटिये मत ना।।

दूजा फल धन माया मिलेगी,
किसी नै सताईये मत ना,
ओ माँ की भगती में हो ध्यान,
कर्म ते हटिये मत ना।।

तीजा फल तन्ने मिलेगी फ़कीरी,
तू कान पड़िेये मत ना,
ओ माँ की भगती में हो ध्यान,
कर्म ते हटिये मत ना।।
download bhajan lyrics (111 downloads)