पाके घुंगरू पैरा दे विच नचना नि

पाके घुंगरू पैरा दे विच नचना नि मैं,
दाती दे दरबार ते,
दाती दे दरबार ते शेरावाली दे दरबार ते,
पाके घुंगरू पैरा दे विच नचना नि मैं,
दाती दे दरबार ते,

शेरावाली भोली माँ दा दर्शन मैं आज पौना,
नाम ओहदे दा सिमरन करके जीवन सफल बनओना,
माँ दे मन ताहि आज मैं जचना नि मैं दाती दे दरबार ते,
पाके घुंगरू पैरा दे विच नचना नि मैं,
दाती दे दरबार ते,

ओह्दी दीद दा तक नजारा भूल गई मैं जग सारा,
सोहना सूंदर रूप मियां दा सारे जग तो न्यारा,
ओहदे चरना दे विच मैं ता वसना नि मैं दाती दे दरबार ते,
पाके घुंगरू पैरा दे विच नचना नि मैं,
दाती दे दरबार ते,

सब न आप मुरादा वंद दी ाजो झोलियाँ भरलो,
राजू साजन शारदा दे नाल दर्शन माँ दा करलो,
जोहणी आखदा है जावे न कोई सखणा जी मैं दाती दे दरबार ते,
पाके घुंगरू पैरा दे विच नचना नि मैं,
दाती दे दरबार ते,
download bhajan lyrics (47 downloads)