मेरे मालिक दी किरपा

मेरे मालिक दी किरपा बहुत पर मेरा चित नही भरदेह
गद्दी छोटी मंगी मिली ते हु बड़ी नु जी करदा
मेरे मालिक दी किरपा बहुत

इक मंग पूरी हों सार ही दूजी खीच लै तयारी
एह भी मालका पूरी करदे दिल सदके लख वारी,
सोचा वाले दरिया दे विच मनवा डगमग करदा
गद्दी छोटी मंगी मिली ते हु बड़ी नु जी करदा
मेरे मालिक दी किरपा बहुत

दस न देखा जो दितीया ने  इक दी चिंता रेह्न्दी
ऐसे गेड फसी मरजानी तरसी  उठ दी बेह्न्दी
इक न देवे दस भी हरले इस तो क्यों नही डर दे
गद्दी छोटी मंगी मिली ते हु बड़ी नु जी करदा
मेरे मालिक दी किरपा बहुत

दीप जो देवे मालिक लै के सिख लै रजा विच रेहना,
जो किस्मत विच लिखिया तेरी ओही पल्ले पैना
ध्यान गुरा दे रख चरना विच देख चडाईया चड दे
गद्दी छोटी मंगी मिली ते हु बड़ी नु जी करदा
मेरे मालिक दी किरपा बहुत
download bhajan lyrics (17 downloads)