रब निक्का जेहा दर रत्नो दा खडकोंदा है

रब निक्का जेहा दर रत्नो दा खडकोंदा है
खैरा पा दे जोगी आया पहली वारी,

गोआ चार मेरिया लस्सी रोटी देन्दु गी
माँ मैनु कहदे पूत मेरा बन जा इक वारी

पैरी पाहुये गल विच सिंगी हथ विच चिमटा है
झोली बाह विच सूरत लगदी जानो वध प्यारी,

सोने रंगियां जटावा सिर ते चमका मार दियां,
कहन्दे भेटि चरनी झुक्दी खनकत सारी,

कहन्दे रतनो दे कर्जा धर्मो माँ दा ला के नहीं,
उड़ गया पौना दे विच बाबा पौणाहारी,
download bhajan lyrics (483 downloads)