जदो तेरे दर दा ख्याल उठ दा

जदो तेरे दर दा ख्याल उठ दा,
अमिये ने दिल च उबाल उठ दा,
तेरे दर उते आवा तनु हाल सुनावा
तरेया दरा ते आके करा सजदा,
जदो तेरे दर दा ख्याल उठ दा,

घर घर जगह जगह हों जगराते चेत असू वाले जदो आऊं नवराते,
सोहन दिया चालेया च चित करे आन नु.
दर आवा छड़ के ख्याल जग दा,
जदो तेरे दर दा ख्याल उठ दा,

हर साल दर ते बुलाया करि माँ ,
लिख लिख चिठिया तू पाया करि माँ,
आवा गे जरुरु जे तू बुलाएगी माँ,
करि तू नवेड़ा मेरे हर दुःख दा,
जदो तेरे दर दा ख्याल उठ दा,

आखड़ा राजेश मुख मोड़ी न,
जो भी आवे दर खाली मोड़ी न,
रहे तेरे नाम दी लगन लगी माँ,
हर पास तेरा ही नजारा दिखदा,
जदो तेरे दर दा ख्याल उठ दा,