साडे घर दाती फेरे पाया भी करो

उचेया पहाड़ा च  बुलाया भी करो,
साडे घर दाती फेरे पाया भी करो,

तेरे लाइ दाती असि मंदिर बनावेंगे,
नवराते च मैया असि कंजका बिठावा गे,
दिल विच दाती साडे वसिया करो,
साडे घर दाती फेरे पाया भी करो,

जग तो निराली इक तुहि ता महान है,
तेरी ही दया तो दाती साडी पहचान है,
बचेया दी खाली झोली भरिया ता करो,
साडे घर दाती फेरे पाया भी करो,

शेर ते सवार होके आजा शेरावालिये,
प्यास राज पाल दी भुजाजा ज्योता वालिये,
भगता दे दुःख दाती हरेया करो,
साडे घर दाती फेरे पाया भी करो,