माता होई दयाल ओ भक्तो, मंग लो सुख़ दा दान

माता होई दयाल ओ भक्तो, मंग लो सुख़ दा दान |
पल विच मेहरा वाली मैया कर देंदी कल्याण, जय माँ ||

दिल दा दीवा ले के उस विच नैना दी जोत पाओ,
श्रद्धा भक्ति वाली वट्टी वट के उस नू जगाओ |
मिल जाएगा इस दर तो फिर मन चाया वरदान ||

इस दे द्वारे ते जब कोई आये बाँझ दुखिआरी,
उस दी गोदी दे विच मारे बचड़ा फिर किक्कारी |
करे इशारा, मुर्दे दे विच पै जांदी है जान ||

इसे दी किरपा नाल हुन्दे सिपिआं दे विच मोती,
चंचल है हर जीव दे अन्दर इसी ज्योत दी ज्योति |
इस दी किरपा नाल ही मूरख बन जांदे विद्वान ||
download bhajan lyrics (712 downloads)