मैं मश्ली दरयावा दी

मैं मश्ली दरयावा दी पौणाहारी तारे ता तर्दी आ,
मैं पानी दे विच रह के भी बाबे दा सिमरन करदी हां,
मैं मश्ली दरयावा दी पौणाहारी तारे ता तर्दी आ,

तेरे मोरा दी जद आवाज सुने मैनु लगदा बाबा आउ होने,
लेजा नाल सिंघ्या वालेया वे,
अक़्ली दा न कोई दर्दी आ,
मैं मश्ली दरयावा दी पौणाहारी तारे ता तर्दी आ,

तेरी पौन दे पैन हुलारे वे तेरे दुभदे लगने किनारे वे,
तेरे धुनें दा कद निगह मिलु मैं पानी दे विच ठरदी आ,
मैं मश्ली दरयावा दी पौणाहारी तारे ता तर्दी आ,

तेरे चल के गुफा ते आवा मैं,
तेरा रज के दर्शन पावा मैं ,
तेरे दर दी गोली बनगी आ,
आवा बाहर पानी को मरदी आ,
मैं मश्ली दरयावा दी पौणाहारी तारे ता तर्दी आ,
download bhajan lyrics (68 downloads)