जेहड़े जोगी नु भूल जांदे

जेहड़े जोगी नु भूल जांदे,
ओह ते राहा विच रूल जन्दे,
जेहड़े बाबा जी नु भूल जांदे ,
ओह ते राहा विच रूल जन्दे,

जीवे फूल दे गुल बन जांदे जान दुखा विच पा लेंदे,
हो जांदे लखो कख ते अपना आप गवा लेंदे,

बोहता मान कदे न करिये ओह्दी कुदरत कोलो डरिये,
ओह्दी रजा च जो नहीं रेह्न्दे मंदे बोल जोगी नु कहन्दे,
जैसी करदे वैसी भरदे  अपना किता पा लेंदे,
हो जांदे लखो कख ते अपना आप गवा लेंदे,

सुखी सुखनि जो चडोनडे ओ ते दुःख ही दुःख ने पाउंदे,
हाथ मार मथे ते रोंदे नाथ नु तरलेया नाल भुलांदे,
फिर दर ते नक रगड़ोंदे जड़ो होश च आ जांदे,
हो जांदे लखो कख ते अपना आप गवा लेंदे,

रतनो जड़ो सी बोलियां मरियाँ लस्सी रोटियां कड दिखा लिया,
फिर हाथ जोड़ के माफियां मंग दियां हरियाँ फसला तू सम्बालिया
सारी उम्र ही ओह पछतौनदे नाथ नु जो दिलो भुला लेंदे,
हो जांदे लखो कख ते अपना आप गवा लेंदे,
download bhajan lyrics (21 downloads)