कन्हैया ताले तोड़ आया

मथुरा से गोकुल में ,-2
इक चोर आया ,कन्हैया ताले तोड़ आया -2

नंद बाबा के घर में आया,वासुदेव देवकी का जाया -2
               ऐसे लल्ला को देखते ही,भक्तों का मन हर्षाया ,
कहलाया नंदनंदन ,करते हैं ,सब वंदन ,
                     ले अवतार आया ,कन्हैया ताले तोड़ आया।
      इक चोर आया ,कन्हैया.....

राधे का मीत कन्हाई है ,सुन बंसी दौड़ी आयी है -2
               उसने कहा सुन राधे रानी क्यूँ ,अपनी प्रीत भुलाई है ,
पक्का है, वादे से ,मिलने को ,राधे से ,
               यमुना से पार आया ,कन्हैया ताले तोड़ आया।
      इक चोर आया ,कन्हैया.....

गोकुल मथुरा और वृन्दावन ,इनकी मिट्टी समझो चन्दन-2
 इस दास की विनती है ,अब लाज राख लो हे भगवन ,
माथे पे ,मैं लगाने ,किस्मत को,चमकाने ,
               तेरे द्वार आया ,कन्हैया ताले तोड़ आया।
     इक चोर आया ,कन्हैया..... ।
श्रेणी
download bhajan lyrics (177 downloads)