औना दी गल होर हुंदी है

जेडे तेरे रंगा च रंग गऐ औना दी गल होर हुंदी है ।
भांवे कुछ वी ज़माना कहे औना दी गल होर हुंदी है ॥

सुध बुध मन जोड़ लैंदे जोगी तेरे नाल जो
मस्ती मनाऊँदे खुश रहंदे हर हला ओ
जीना आसरे जोगी दे सदा लऐ
औना दी गल होर हुंदी है।

भक्त पेयारेया ने रंगाया रंग खास ऐ
औकड़ा मुसिबता नु जानेया मज़ाक ऐ
मेरे जोगी दे भरोसे जेडे रहे
औना दी गल होर हुंदी है।

लाल तेरे सारे आसां तेरे ते टिकाऊँदे ने
निवे होके रहन चंगी भावना बनाऊँदे ने
विक्की अलबेला ऐहो गल कहे
औना दी गल होर हुंदी है।

जेडे तेरे रंगा च रंग गऐ औना दी गल होर हुंदी है ।
भांवे कुछ वी ज़माना कहे औना दी गल होर हुंदी है॥

download bhajan lyrics (139 downloads)