सुन ले बाबा धुन दिला दी धारा दी

सुन ले बाबा धुन दिला दी धारा दी,
साहनु भी इक दे देयो झलक प्यारा दी,
लाओ किनारे बेड़ी बिन पटवारा दी,
साहनु भी इक दे देयो झलक प्यारा दी,

पा पा वसदे मन नु जीतना औखा है,
मेहर करे ते हो सकदा कम सोखा है,
फड़ ले बांह हूँ मन मुख तोड़ सवारा दी,
साहनु भी इक दे देयो झलक प्यारा दी,

आसा दे असि दीप जलाई बैठे आ,
दिल विच लख अरमान सजाई बैठे आ,
मन अरजोई तू जो बिशडियां डारा दी,
साहनु भी इक दे देयो झलक प्यारा दी,

चरनी ला के रखियो भूलन हारा नु,
सुर बक्शो मणि सागर दे गुन्हा गारा नु,
सदा सरोया मंगदा सुख परिवारा दी,
साहनु भी इक दे देयो झलक प्यारा दी,