होली में मेरे लग जाएगी

मत मारे द्रगन की चोट ओ रसिया होली में मेरे लग जाएगी॥

मैं बेटी बृजभान बाबा की,
और तुम हो नंद के ढोट ओ रसिया होली में मेरे लग जाएगी,
मत मारे द्रगन की चोट....

मुझको तो लाज बड़े कुल घर की,
और तुमने बड़े-बड़े खोट को रसिया होली में मेरे लग जाएगी,
मत मारे द्रगन की चोट....

पहली चोट बचाए गई कान्हा,
कर नेनन की ओट ओ रसिया होली में मेरे लग जाएगी,
मत मारे द्रगन की चोट....

दूजी चोट बचाई गई कान्हा,
कर घूंघट की ओट ओ रसिया होली में मेरे लग जाएगी,
मत मारे द्रगन की चोट....

तीजी चोट बचाई गई कान्हा,
कर लहंगा की ओट ओ रसिया होली में मेरे लग जाएगी,
मत मारे द्रगन की चोट....

नंदकिशोर वही जाए खेलो,
जहां मिले तुम्हारी जोट ओ रसिया होली में मेरे लग जाएगी,
मत मारे द्रगन की चोट....
श्रेणी
download bhajan lyrics (315 downloads)