मोर की छड़ी ने थे फिराय देवो जी

म्हारे कानी निजरां घुमाय लेवो जी,
मोर की छड़ी ने थे फिराय देवो जी॥

थारे ही भरोसे बाबा सारो संसार है,
म्हाने औ बाबा बस थारी दरकार है,
म्हाने भी तो कालजे लगाय लेवो जी,
मोर की छड़ी ने थे फ़िराय देवो जी......

सुन के मैं याही आई हारेड़ा का साथी हो,
डूबती हुई नैयां का बस थे ही माँझी हो,
मै भी डूबन लागी, मन्ने तार देबो जी,
मै भी डूबन लागी, मन्ने तार देबो जी,
मोर की छड़ी ने थे फ़िराय देवो जी......

निजरा घुमावोगा तो काई घट जावेगो ,
श्याम कहे इ सुमी को काम पट जावेगो,
छोटो सो है काम क्यूँ बुराई लेवो जी,
मोर की छड़ी ने थे फ़िराय देवो जी,
म्हारे कानी निजरां घुमाय लेवो जी,
मोर की छड़ी ने थे, फिराय देवो जी........
download bhajan lyrics (145 downloads)