वैष्णवी भवानी माँ के हाथों में जग की डोर

वैष्णवी भवानी माँ के हाथों में जग की डोर
माँ के ही संकेत पे हो दिन रैन साँझ और भौर,
संसार का आधार है वैष्णो माता,
ममता रूपी सार है, वैष्णो माता,

अपरम्पार हैं माँ की महिमा,
अमित हैं गाथा गौरव गरिमा,
संसार का संचार है वैष्णो माता
संसार का निर्माण है वैष्णो माता

नवदेवी का रूप है माँ,
महाशक्ति स्वरूप है माँ
पालनहारी है माँ त्रिकुटा,
कहीं छाँव कहीं कहीं धूप है माँ,
रंग केसरिया माँ का बाला,
सिन्दूरी रंग अंग सुहाना,
संसार का संचार है वैष्णो माता,
संसार का निर्माण है वैष्णो माता
download bhajan lyrics (277 downloads)