कोठियां पावां वाली मंदिरा च रेहँदी आ

रति वि न पुजदा है जग सारा,
दसने दी लोड नहियो आप भुज लेंडी आ,
कोठियां पावां वाली मंदिरा च रेहँदी आ,
वेडे बने लाउन वाली मंदिरा च रेहँदी आ,

सारिया तो सोना दर दरबार मेरी मइयां दा,
होके ता वेखि इक बार मेरी मइयां दा,
होर किते जान दी लोड ही ना पेंदी आ,
कोठियां पावां वाली मंदिरा च रेहँदी आ,
वेडे बने लाउन वाली मंदिरा च रेहँदी आ,

होके दयाल तार दिंडी सत कुला नु,
कर दिंडी माफ़ साडे तो हो गई जो भुला नु,
भगता प्यारा दियां दुःख नावा सेहँदी आ,
कोठियां पावां वाली मंदिरा च रेहँदी आ,
वेडे बने लाउन वाली मंदिरा च रेहँदी आ,

सब न दी सुनी जांदी इथे यार मेरियाँ,
अठोली वाले लाल तेरी मइयां जी दी मेहर आ,
मैं नहीं कला कहंदा सूफी दुनिया पई केहन्दी आ,
कोठियां पावां वाली मंदिरा च रेहँदी आ,
वेडे बने लाउन वाली मंदिरा च रेहँदी आ,
download bhajan lyrics (42 downloads)