मेरे गुरु जी पालनहार

हो मेरे गुरु जी पालनहार तेरा सजेया रवे दरबार
मैं मंगदी रवा दिन रात तू वंडदा रवे हर वार,
मेरे गुरु जी पालनहार तेरा सजेया रवे दरबार

कोई खाली नही जाता है जो दर तेरे ते मंगदा है,
तेरे दर दी बगियाँ दा भी हर इक गुलशन ही खिल्दा है,
तेरे मंदिर दा परशाद मैं भर भर खावा हां,
मेरे गुरु जी पालनहार तेरा सजेया रवे दरबार

सत्संग विच अपने बुला के कर्मा नु तुसी घताओंदे हो
दुःख रोग दलीदर नु भी तुसी साथो दूर न सोंदे हो
शिव शम्भु दा अवतार करे सब दा वेडा पार,
मेरे गुरु जी पालनहार तेरा सजेया रवे दरबार

रोगा नु दूर हटा के साडे मन नु शुद्ध बनाया है,
सबना नु इको समजो साहणु एहियो पाठ पडाया ऐ,
शुकराना करे संसार एहियो रेहमत दा दरबार,
मेरे गुरु जी पालनहार तेरा सजेया रवे दरबार