सतगुरु तेरी ओट है साहनु

सतगुरु तेरी ओट है साहनु,
सतगुरु तेरी ओट,
तेरी चरनी जुड़े जदो दे आई न साहनु कोई थोड़,
सतगुरु तेरी ओट है साहनु,

दिन राती तेरा नाम ध्याइये,
जीवन अपना सफल बनाइये ,
पल भर लई भी देवी न तू मेरे मन विच खोट,
सतगुरु तेरी ओट है साहनु,

सबना लाई अरदासा करदे सबना दे मन खुशियां भर दे,
किसे दा भी कोई बुरा न मने ऐसी जगा दो ज्योत,
सतगुरु तेरी ओट है साहनु,

संगता दी जो करदा सेवा बन जाओ ओहदे चरनी मेवा,
भला चोरियां वाणी करदी बिगड़ी जांदी लोर,
सतगुरु तेरी ओट है साहनु,