अस कछु समुझि परत रघुराया

अस कछु समुझि परत रघुराया
बिनु तव कृपा दयालु  दास-हित  मोह न छूटै माया ॥

जैसे कोइ इक दीन दुखित अति असन-हीन दुख पावै  
चित्र कलपतरु कामधेनु गृह लिखे न बिपति नसावै

जब लगि नहिं निज हृदि प्रकास, अरु बिषय-आस मनमाहीं
तुलसिदास तब लगि जग-जोनि भ्रमत सपनेहुँ सुख नाहीं
श्रेणी
download bhajan lyrics (15 downloads)