इको इक नशा सहनु छोटी जही फकीरी दा

दुःख न गरीबी दा ते मोह न अमीरी दा,
लोड नहियो ताजा दी ते शोंक न वजीरी दा,
इको इक नशा सहनु छोटी जही फकीरी दा,


झूठ नहिओ बोलदे सुनाइए हड्ड बीतिया,
जंगला दे शेरा ने सलामा सहनु कितिया
ना ही डर सप दा ते ना ही डर किड्ढी दा
इको इक नशा सहनु छोटी जही फकीरी दा,

जोगियां वे पौनहारिया सहनु तेरा ही सहारा है
सरे मैं द्वारे  छड के तेरा मलया द्वारा  है


ओहदे  नूर विच असि होये  नूरों नूर हाँ,
माड़िया कम्मान तो ताइयों रहन्दे अस्सी दूर हाँ,
ना ही शौंक दारू दा ते ना ही शोंक बिड्डी दा

 इको इक नशा साणु जोगी दी  फकीरी दा.........

यादा विच जगाना ते यादां विच सोहना है,
सोनू दा स्लेर नित्त पुंजे ही बिछोना है
ना ही शौंक मंजे दा ते ना ही शौंक पिडी दा
इको इक नशा साणु जोगी दी फकीरी दा.............



मुढ़ी विच बंद करले,  तार्रे अम्ब्रा दे तोड़ तोड़ के
ह्रदय च तेरा नाम लिख्या , ऐना तारिया नु जोड़ जोड़ के


जिन्हा नु व् तुर्र अन्द्रो, तेरे नाम दा सरूर हुंदा है,
ओना दिया चेहरिया उत्ते वाखो वखरा ही नूर हुँदा है"""""
 
किसे दा नि  हक़ खाइदा ,किती किरत कमाई होइआ
गहनिया दी लोड कोइ ना सिंगी बाबा जी दी पाई होइया"""
download bhajan lyrics (18 downloads)