जोगी जोगी कहन गे जो पौनाहारी कहन गे

जोगी दा जो नाम लें सदा खुश रहन गे,
जोगी जोगी कहन गे जो पौनाहारी कहन गे,

झोली चिमटे सींगिया वाला माँ रत्नो दा पाली,
दर ते आइए संगता नु ओह कदे न मोड़े खाली
सच दस कदे भी गुनाहे न पैन गे,
जोगी जोगी कहन गे जो पौनाहारी कहन गे,

वन गंगा दे धुना लाके जेहड़े चौंकियाँ भरदे,
सिद्ध जोगी पौणाहारी दी जय जय कार जो कार्दे,
दुख दे सागरा च कदे भी न बेहन गे,
जोगी जोगी कहन गे जो पौनाहारी कहन गे,

चोहान साब पेचीती साहिल ते आ गया चेत दा चाला,
सिद्ध जोगी दे दर्शन करदा कर्म बागा वाला
मंजिला नु पौंदे जान पीछे न ओह रहन गे,
जोगी जोगी कहन गे जो पौनाहारी कहन गे,