शाहतलियाँ बज्दा चिमटा योगी दा

शाहतलियाँ बज्दा चिमटा योगी दा,
दिल सुन सुन के नहीं रज दा चिमटा योगी दा,

जटा सुनेहरी हाथ विच चिमटा रूप है बड़ा निराला,
जेहड़ा दर्शन करदा भगतोओ है कर्म वाला,
दिल हर वेले करे सजदा चिमटा योगी दा,
शाहतलियाँ बज्दा चिमटा योगी दा,

चिमटा सुन के सिद्ध जोगी दा गोरख टीलयो आया,
हेठ गरु ने धुना सी जद पौणाहारी ने लाया,
ओ ता भेद जाने सारे जग दा चिमटा योगी दा,
शाहतलियाँ बज्दा चिमटा योगी दा,

इंदरजीत इस चिमटे दी ना मैनु सार है कोई,
कुल दुनिया इस चिमटे दी फिरे दीवानी होइ,
ओह ता रखा सब दी लाज दा चिमटा योगी दा योगी दा योगी दा,
शाहतलियाँ बज्दा चिमटा योगी दा,
download bhajan lyrics (13 downloads)