कई दर दर लभदे प्रीतम नूं

कई दर दर लभदे प्रीतम नूं,कई फड के कोल बिठा लैदें
कई वृंदावनो खाली मुड आंदे,कई घर विच रब नूं पा लैदें
कई दर दर लभदे प्रीतम नूं............

एह प्रेम दी मस्ती गहरी है इसदा कोई भेद ना पाया है
इक लभ दे शाम गवाचे नूं,  इक लभ के शाम गंवा लैदें
कई वृंदावनो खाली मुड आंदे कई घर विच रब नूं पा लैदें

कई सोना सेर चढा दें दें, कई कपडे ढेर लगा दें दें
रब रिझ दा उस दियाँ भेटां ते, जेहडे शीश दी बाजी ला दें दें
कई वृंदावनो खाली मुड आंदे कई घर विच रब नूं पा लैदें

कई मखमल दा भगवा पा लैदें,  कई चिटे कपड़े पा लैदें
कई पाटीयां लीरां पाके भी सोने रब नूं आप रिझा लैदें
कई वृंदावनो खाली मुड आंदे कई घर विच रब नूं पा लैदें

दासी इस दूनीया दे अंदर 2 रूप ने दूनीया दारां दे
इक शक्ल च आपके रब दिस दा,इक रब दी शक्ल बना लैदें
कई वृंदावनो खाली मुड आंदे कई घर विच रब नूं पा......

कुंज बिहारी (वृन्दावन)
श्रेणी
download bhajan lyrics (67 downloads)