के गुंजदे जयकारे दाती दे

माँ दा जागा करवाया घरे माँ नु भुलाया,
साढ़े खुशियां ना भर दीते पल्ले के गुंजदे जयकारे दाती दे ,.

छोले पूरियां दा ऐसी लंगर बनाया है,
पहला भोग शेरावाली माँ नु लाया है,
बड़ी ख़ुशी न बनाये दही भल्ले,
के गुंजदे जयकारे दाती दे .....

जदो दिया डोरा आसी माँ दे उते सुटियाँ,
खुशियां भहारा ते हज़ारा असि लुटियाँ,
कदे ज़िंदगी दे विच सी इकले,
के गुंजदे जयकारे दाती दे ,....

कंजका दे रूप विच माँ नु असि देखना,
निम्मा निम्मा निग गोद माँ दी दा सेकना,
उचे करदे सी जेहड़े कदी थले,
के गुंजदे जयकारे दाती दे ,.

शेखचख वाले नु ना थोड़ किसे गल दी,
हर वेले रेहँदी स्नेही दाती कल्हड़ी,
मजिंदर गिल ने द्वारे ओहदे मले के गुंजदे जय कारे दाती दे,
के गुंजदे जयकारे दाती दे ,.
download bhajan lyrics (28 downloads)