श्यामा प्यारी मेरे साथ है तो डरने की क्या बात है

छायें कलि घटाएं तो क्या , तेरे आँचल के नीचे हूँ मैं ,
आगे आगे वो चलती मेरे , अपनी श्यामा के पीछे हूँ मैं ,
उसने पकड़ा मेरा हाथ है , फिर डरने की क्या बात है,
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं.....
इनके रहते कोई कुछ कहे बोलो किस की ये औकात है

उनकी करुना का वर्णन करूँ , मेरी वाणी में वो दम नहीं ,
जबसे तेरा सहारा मिला, फिर सताए कोई ग़म नहीं ,
करती ममता की बरसात है, मेरी लड़ो की क्या बात है ,
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं.....
इनके रहते कोई कुछ कहे बोलो किस की ये औकात है

क्यों तू भटके यहाँ से वहां , इनके चरणों में आ बैठ न ,
छोड़ दुनिया के नाते सभी, श्यामा प्यारी से नाता बना ,
ये कराती मुलाक़ात है , मेरी श्यामा की क्या बात है ,
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं.....
इनके रहते कोई कुछ कहे बोलो किस की ये औकात है

गर हो जाये करुना नज़र , बरसाना बुलाती हैं ये,
दिल क्यों न दीवाना बने, हिरदये से लगाती है ये ,
प्यार करने में विख्यात है,मेरी लाडो की क्या बात है ,
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं.....
इनके रहते कोई कुछ कहे बोलो किस की ये औकात है

पंडित देव शर्मा बृजवासी
श्रेणी
download bhajan lyrics (146 downloads)