जो मुझे प्रभु से मिला दे वो गीत गाना चाहता हूँ

जो मुझे प्रभु से मिला दे वह गीत गाना चाहता हूं,

रास्ते सबने बताए पर साथ कोई दे न पाया ,
कौन देगा साथ जबकि साथ दे न अपना साया,
जग से नाता तोड़कर बंधन मिटाना चाहता हूं ,

जीतकर मैंने कभी इस जिंदगी से कुछ ना पाया,
हार कर मैंने सदा फिर से संभलकर पग बढ़ाया,
इसीलिए मैं हार कर भी मुस्कुराना चाहता हूं ,

हर अंधेरी रात के पहलू में जागा है सवेरा ,
हर थके पक्षी को आखिर मिल ही जाता है बसेरा,
मैं इसी आशा पर मोहन को रिझाना चाहता हूं,
श्रेणी
download bhajan lyrics (109 downloads)