दर तेरे ते घटा ना कोई

दर तेरे ते घटा ना कोई सहनु मंगन दा वल ना आया,

द्रोपती ने सि लीर बंधी साडियाँ दा ढेर लगाया सी,
डोरा प्रेम दिया हर को बन दा सहनु बनन दा वल ना आया,
दर तेरे ते घटा ना कोई ...

मीरा ने सी ज़हर प्याले विचो दर्शन पा लेया,
श्याम ता मेरा अंग संग वसदा सहनु देखन दा वल न आया,
दर तेरे ते घटा ना कोई ...

धने ने सी साग बनाया भोग लगावन आ गया,
साग ता असी रोज बनाइये भोग लगान दा वल ना आया,
दर तेरे ते घटा ना कोई .....

मंग दी रह गई मैं चीज पराई,
मंग दी रह गई जग बद्याई,
जो मंगना सी ओ न मंगियाँ हीरा जनम गवा लिया,
दर तेरे ते घटा ना कोई
श्रेणी