तू जिहने मर्जी दुःख दे दे

तू जिहने मर्जी दुःख दे दे,
दुःख सेहन दी आद्दत पे गई है,
मेरे सैयां तनु की कहना,
चुप रेहन दी आद्दत पे गई है,

साढ़े चेहरे उते लिखियाँ ने साढ़े दिल उते जो बीतिया ने,
असी भूलना चाहे भुलदे नहीं साढ़े नाल जो जो बिटियां ने,
साहनु मेले चँगे लगदे नहीं वख रेहन दी आद्दत पे गई है,
तू जिहने मर्जी दुःख दे दे,

असी लिख लिख चिठियाँ हार गए असी लब लब तनु हार गए,
की दसिये सैयां दोष मेरे साहनु तेरे विशोदे मार गए,
हूँ हस्सा चंगा लगदा नहीं साहनु रोन दी आद्दत पे गई है,
तू जिहने मर्जी दुःख दे दे
श्रेणी
download bhajan lyrics (148 downloads)