लै दे टिकट मेनूं वृन्दावन जाण दी

आस बिहारी जी दा दर्शन पौण दी,
लै दे टिकट मेनूं वृन्दावन जाण दी

1. मन्ना मैं रोज़ हो तेरी ,इक्को आज मनले मेरी
मनां मैं रोज़ हो तेरी ,इक्को माहिया आज मनले मेरी -2  
आस बिहारी जी दा दर्शन पौण दी -2
ले दे टिकट मेनूं वृन्दावन जाण दी -2

2. ठाकुर श्री बांकेबिहारी सपने च आया कई बारी
देखी जो सूरत सौणी सुधबुध मैं पुल गयी सारी -2
ठान लई मैं माहिया ओदे दर्शन पौण दी -2

3. दिनें मैं ओसियां पावां ,रातां नूं जाग लगावां
लग्गे पुख प्यास न मैनूं यादां बिच मुकदी जावां -2
रही परवा ना मैनू जिंदगी गवाण दी -2
ले दे टिकट मेनूं ....

4. माहिया जे सुखी तू रैणा ,मान लै ‘‘मधुप’’ दा कैणा
दीता जे जाण न मैनू ,पैजूं तैनू पछतोंणा -2
बिब्ता पैजूं तैनूं रोटियां पकोण दी -2
ले दे टिकट मेनूं ....
आस बिहारी जी दा दर्शन पौण दी -2
ले दे टिकट मेनूं वृन्दावन जाण दी -2

ठान लई मैं माहिया ओदे दर्शन पौण दी,
रही परवा ना मैनू जिंदगी गवाण दी ,
बिब्ता पैजूं तैनूं रोटियां पकोण दी,
आस बिहारी जी दा दर्शन पौण दी,
ले दे टिकट मेनूं वृन्दावन जाण दी।
download bhajan lyrics (148 downloads)