भर भर लै गए ओ मुट्ठियाँ

भर-भर लै गए ओ मुट्ठियाँ,
जिन्हां ने गुरां उत्ते डोरां सुट्टियां,
गुरां ते डोरां सुट्टियां,
भर-भर लै गए मुट्ठियाँ......

इस कुल्ल दे विच धन्ना वी आया सी,
पत्थरां चों श्याम दा दर्शन पाया सी,
साग ते टोडे दा भोग लवाया सी,
नाले ओस तों खेती दा कम्म करवाया सी,
श्याम नूं पाके धन्ने मौजा लुट्टियां,
जिन्हां ने गुरां उत्ते डोरां सुट्टियां......

मीरां ने श्याम नाल प्रीत लगाई सी,
ज़हर प्याले विच्चो मिले कन्हाई सी,
सच्ची खुशी मीरां बाई ने पाई सी,
सारे लोकी ओनू कैन्दे शुदाई सी,
सांवरे नूं पाके मीरा मौजा लुट्टियां,
जिन्हां ने गुरां उत्ते डोरां सुट्टियां.....

भीलनी नू राम जी दा रेंहदा इंतज़ार सी,
सुबह सवेरे ओ ता रांहा नू सवारदी,
गुरू वचनां ते ओनू पूरा विश्वास सी,
राम जी नू मिलण दी सच्ची ओदी आस सी,
जूठे बेर खाले जातां वी ना पुछियां,
जिन्हां ने गुरां उत्ते डोरां सुट्टियां.....

जिन्हां भगतां नू अपने गुरां दा सहारा ऐ,
लोक परलोक ओदा गुरां ने सवांरा ऐ,
पीता जिन्हां दासा ने नाम दा प्याला ऐ,
चढ़ेया ओना नू रंग निराला ऐ,
गुरां जी नू पाके असां मौजा लुट्टियां,
जिन्हां ने गुरां उत्ते डोरां सुट्टियां....

भर-भर लै गए ओ मुट्ठियाँ,
जिन्हां ने गुरां उत्ते डोरां सुट्टियां,
गुरां ते डोरां सुट्टियां,
भर-भर लै गए मुट्ठियाँ......
download bhajan lyrics (123 downloads)