दस वे कन्हैया केडी नवी शरारत कीत्ति हैं

दस वे कन्हैया केडी नवी शरारत कीत्ति हैं
किदा किदा माखन खादा कीदी लस्सी पीत्ति है

इक गवाँडन कैँदी मेरा सारा माखन खा गया
दूजी गवाँडन कैँदी मेरी सारी लस्सी पी गया
तीजी गवाँडन कैँदी मेरी मटकी फोड दीत्ति है


इक गवाँडन कैँदी मैनू जाँदी नू है टोकदा
दूजी गवाँडन कैँदी मेरा रस्ता है रोकदा
तीजी गवाँडन कैँदी मेरी चुनरी वी खीँची है

नन्द बाबा जेडा तेरा पँचा दे विच बैँदा ए
पँचा दे विच बैके ओ ता नित्त उलाहने सैँदा ए
तेरया उलाबँयाने हद कर दीत्ति ए

मात यशोदा मै ना कोई शरारत कीत्ति है
सखियाँ ने झूठ बोल हद कर दीत्ति है
ना मैं किसे दा माखन खादा ना मैं लस्सी पीत्ति है
दस वे कन्हैया
श्रेणी
download bhajan lyrics (322 downloads)