मेला फागुन दा लगदा श्याम दरबार

मेला फागुन दा लगदा श्याम दरबार सांवरिया करदा ऐ भगता दा बेडा पार
ओ मेला फागुन दा

मुकट सजाये उते कलगी सजाये मथे तिलक केसरिया जचदा
इतर लगाये गल मोती माल पाए बाबा सारेया दिल विच वसदा
भंड के मुरादा सारे भगता नु बाबा कहलान्दा लख दातार
मेला फागुन दा लगदा श्याम दरबार सांवरिया करदा ऐ भगता दा बेडा पार
ओ मेला फागुन दा

लंभी है कतारे मेरे श्याम जी के द्वारे दुनिया में शान निराली
श्याम है बड़ा दिलदार मेरा खाटू वाला
गया न याहा से कोई खाली,
देव है निराला सारी दुनिया में देखो मेरा सांवरिया सरकार
मेला फागुन दा लगदा श्याम दरबार सांवरिया करदा ऐ भगता दा बेडा पार
ओ मेला फागुन दा

सारे जग विच इको श्याम दा दरबारा जेह्डा हारे दा सहारा कह लाव्दा
हारे होए भगता नु मिलदा सहारा बाबा रेहमता दा मीह बरसाव्दा
नीले घोड़े वाले बाबा करदा कमाल अपनी मोर छड़ी दे नाल
मेला फागुन दा लगदा श्याम दरबार सांवरिया करदा ऐ भगता दा बेडा पार
ओ मेला फागुन दा

अमित ने भी आके कन्हिया जी दे नाल खाटू विच होली मनाई
रंग गया खाटू सारा श्याम जी दे रंग विच भगता ने खुशिया मनाई
गोरव दीवाना होके खेलदा है होली संग खेले सची सरकार
मेला फागुन दा लगदा श्याम दरबार सांवरिया करदा ऐ भगता दा बेडा पार
ओ मेला फागुन दा
download bhajan lyrics (77 downloads)