मैया दा दरबार है सोहना जिथे शीश जुकावा

मैया दा दरबार है सोहना जिथे शीश जुकावा
विच पहाडा भगता उते करदी आप छावा,
छड के मंदिरा नु दूर कदे न जावा

शेर सवारी सोनी माँ दी मैं जावा बलिहारे
शीश झुकांदे जिहदे दर ते सूरज चन सितारे
किरपा दाती दी लौंदे भगत जय कारे

माँ मेरी दा रुतबा देखो सारे जग तो न्यारा भगता दे लई खुलेया रहंदा
सोहना भवन प्यारा
माँ दे भगता नु माँ दा इक सहारा

भगता दी हर आस ते मुराद ते पूरी माँ करदी
कदे न ढोलदे भगत प्यार हथ माँ सिर ते धरदी,
खाली झोलियाँ नु पल दे विच माँ भरदी

माँ दे दर ते भगता ने भी बहुत रोनका लाइया,
आंबे माँ दिया जिथे करदे ने सारे बड़ाईया
मेहरा भगता ते माँ ने अज बरसाईया

मुसापुरियां सोनू बेठा चरना विच चित ला के
पूरा होया खाव्ब हनी दा माँ दा दर्शन पा के
धन धन हो गया है माँ दा नाम ध्या के

download bhajan lyrics (483 downloads)