आई मैं तोरे अंगनवा

जगदम्बे माँ आई मैं तोरे अंगनवा,
गाऊ में तोरे भजनवा
आई मैं तोरे अंगनवा

तोरहरे अंगनवा की माँ ये चमेली
जग को सारे मेह्काई अलेकी
कोयालियाँ मीठी तान सुनाये भगती में होके मगन वा
आई मैं तोरे अंगनवा

तोहरे अंगनवा की रुत मस्तानी
देख इसे माई हुई मैं दीवानी
तोहरे द्वारे झूम के नाचू और खन्काऊ कंगनवा
आई मैं तोरे अंगनवा

तोहरे अंगनवा में मेला लगत है ,
सब की बिगडे काम बनत है
एजाज़ की झोली में भरदो भगती के सारे खजन वा
आई मैं तोरे अंगनवा