तू दर्श दिखा दे माये दर संगता अर्ज गुजार दियां

तू दर्श दिखा दे माये दर संगता अर्ज गुजार दियां
चल बड़ी दूर तो आइयाँ ने एह माता चीर पहाड़ दियां
तू दर्श दिखा दे माये दर संगता अर्ज गुजार दियां

तेरे नाम दी ज्योत दातिये दिल दे विच वसाई ऐ
खोल भवन से द्वार नि माये रज रज दर्शन पाईऐ,
तू पुरियां करे मुरादा ओ जो संगता दिल विच तार दिया
तू दर्श दिखा दे माये दर संगता अर्ज गुजार दियां

खैर मेहर दी पाके संगता नाल ख़ुशी दे तोरी माँ
खड़े सवाली झोलियाँ अड के खाली न तू तोरी माँ,
कर दिल चो दूर हनेरा तांगा ने तेरे प्यार दियां
तू दर्श दिखा दे माये दर संगता अर्ज गुजार दियां

आ गया साहिल दर ते तेरे सुन ले तू अर्जोई माँ
तेरे बाजो इस दुनिया विच मेरा न हूँ कोई माँ,
करे सिफ्ता हंसा दी तेरे रंगले इस दरबार दियां
तू दर्श दिखा दे माये दर संगता अर्ज गुजार दियां