सब कुछ तेरे हथ मालका सब कुछ तेरे हथ

जो मापेया तो दूर हो ओहना पुत्रा नु मिला दे रब्बा
जो किस्मत विच जुज रहे ओहना नु मुकत करा दे रबा
मनया ने गलतियाँ होइयां ने मावा पुता लई रोइया ने अपनी वरकत देके रख
सब कुछ तेरे हथ मालका सब कुछ तेरे हथ

सब पेहला करदे मालका लोकी ता दर तेरे ते आवन
भूखे साधू ते घज पा दे लई लोकी लंगर लावन
मोह  माया दी दुनिया नु देके रखी मत
सब कुछ तेरे हथ मालका सब कुछ तेरे हथ

कई गुरु सिख दिया लिबात कर्ण सब ठीक कर्ण लई,
कई चुप चाप बेठ गए सब कुछ हारण लई
लव दी एह अरदास शेहनशाह चरना दे विच रख
सब कुछ तेरे हथ मालका सब कुछ तेरे हथ

कोई कला नही दुनिया दे विच सब दे नाल संसार,
तुसी छड दो डोरा दाते ते भली करू करतार,
कोई पापा दा पार ना हो जावे सब दे अंदर तू ही वस्
सब कुछ तेरे हथ मालका सब कुछ तेरे हथ