दुनिया के कोने कोने में खाटू श्याम का शिका चलता

दुनिया के कोने कोने में खाटू श्याम का शिका चलता है,
भारत का बच्चा बच्चा  मेरे श्याम के टुकडो पे पलता है,

घर घर श्याम की ज्योत जले,
ज्योत से हर इक शोक टले,
भगतो के घर में बाबा की किरपा का दीपक जलता है,
भारत का बच्चा बच्चा  मेरे श्याम के टुकडो पे पलता है,

जिस पर एक नजर डाली उसकी ही किस्मत बदल डाली,
पर्थर को परस में देखो ये मोर विनंध बदल ता है,
भारत का बच्चा बच्चा  मेरे श्याम के टुकडो पे पलता है,

हर मुश्किल और हर संकट हर संकट भाई हर संकट,
भागते है भगतो डर कर भगतो डर कर,
बाबा का श्याम निशान लेके जब शेरो का झुण्ड निकलता है,
भारत का बच्चा बच्चा  मेरे श्याम के टुकडो पे पलता है,

महिमा जो जाने श्याम की श्याम की भाई श्याम की ,
श्याम के श्याम निशान की निशान की भाई निशान की,
वो दीवाना दुनिया में ना शर्मा किसी से डरता है
भारत का बच्चा बच्चा  मेरे श्याम के टुकडो पे पलता है,