श्याम सहारा हमको तुम्हारा

दो दिल टुटे दो दिल हारे,
श्याम सहारा हमको तुम्हारा,
डुब ना जाऊँ देदो किनारा,

पाप किया क्या हमने, दि नी क्यों हमको ये सजा,
पल पल मैं पुजु तुमको ,फिर क्यों तु रूठा है बता,
दर्द सहा ना जाये, अब तो बचा जा,
श्याम ...........

नाम तुम्हारा दाता, हारे को देता है सहारा,
मैं भी तो हार गया हूं, मेरा क्यूँ बनता ना सहारा,
तेरे सिवा इस जग मेँ ,कौन हमारा,
श्याम...........

अब भी ना बिगडा कुछ भी,  आजा ओ मेरे खाटू वाले
बिगडी दशा ये मेरी, बिन तेरे कौन है सम्भाले
बेदर्दी बन ना बाबा,  दे दो सहारा
श्याम ..........