बोल जैकार चले मई के द्वार

बोल जैकार चले मई के द्वार चले,
शुभ घड़ी आई अरे औ सब भक्त कहे जय हो महा मई रे,

माँ के द्वारा की हर चीज निराली देखि,
झोलियाँ लाख दी पर इक न खाली देखि,
माँ की महिमा को देख अँखियाँ झलक आई रे,
औ सब भक्त कहे जय हो महा मई रे,

माँ की ममता से भरी एक नजर पढ़ जाए,
ये बदनसीब की जंदगी सवर जाए ,
ये है अभिलाषा मुझे द्वारा पे ले आई है,
औ सब भक्त कहे जय हो महा मई रे,

तेरी भगति की सदा ज्योत माँ जगा रखना ,
अपनी लक्ष्मी को सदा शरण में लगा रखना,
लेके बेनाम ध्वजा खून में लहराई रे,
औ सब भक्त कहे जय हो महा मई रे,
download bhajan lyrics (28 downloads)