हम से राखी बंधवा ला तू हमार भाइयाँ

आज बांटे रक्शा बंधन के त्यौहार भाइयाँ,
हम से राखी बंधवा ला तू हमार भाइयाँ,
आज बांटे रक्शा बंधन के त्यौहार भाइयाँ,

इतना ही पावन दिनवा कभू न भुलहियाँ,
जाहवा भी रहिया एह दिन घर चली आइहा,
तोड़ियाँ कबहुँ न सनहियाँ की तार भाइयाँ,
हम से राखी बंधवा ला तू हमार भाइयाँ,

कहे सब लोगवा एकर न बा कोण मोल  हो,
सब से ही बढ़कर बांधे धागा अनमोल हो,
जुड़ल बांटे ऐसे सारा सनासर भाइयाँ,
हम से राखी बंधवा ला तू हमार भाइयाँ,

वादा इ तोसे बेहना कर ली हमआज हो,
मर के भी राखव तोहरी राखियां लाज हो,
खुश रह तू बस चाहे तोहार भाइयाँ,
हम से राखी बंधवा ला तू हमार भाइयाँ,
श्रेणी