मेरी माँ दे पैरा थले जन्नत वसदी आ

माँ तनु मैं सजदा करदा,
तेथो न कदे न राख्या परदा,
नो महीने कुख विच रख्या एहसान माँ तेरा दे नहीं सकदा,
मैनु खुश रखन ले एमी नित दुआवा करदी आ,
मेरी माँ दे पैरा थले जन्नत वसदी आ,

निके हुंडिया सिर तो उठया बाप मेरे दा साया,
बापू दी कदे याद न आई एहना लाड लड़ाया,
अंदर वड़के रोंदी मट्टू दुःख न कोई दस्दी आ,
मेरी माँ दे पैरा थले जन्नत वसदी आ,

मुख तेरा जद देखा आमिये चैन जेहा मिल जावे,
केहन नु कोई दुःख न लगे भावे जान मेरी चली जावे,
तू ही मक्का तू ही मदीना तू ही रब माँ लगदी आ,
मेरी माँ दे पैरा थले जन्नत वसदी आ,

चाचेया तायेआ मुख मोड़ेया माँ ने गल नाल लाया,
मैनु कोई भी दुःख ना आवे मुश्किला नाल पढ़ाया,
पिंड भड़ोली आज भी सिमी खड़ी उडीका करदी आ,
मेरी माँ दे पैरा थले जन्नत वसदी आ,
श्रेणी