पग नु दाग ना लाई

तूही मेरा पुत्त ऐ तू ही मेरी धी नी
लग जे उम्र  मेरी जुग जुग जी नी
कॉलज चे दाखला मैं लैदू धीये रानिये,
दो वचन झोली दे विच पायीं
जी सदक़े तू भावें कर लै पढ़ाइयां ,
मेरी पग नू दाग़ ना लाईं ,
तूही मेरा पुत्त ए तू ही मेरी धी नी.....

पढ़ लिख जावेंगी जे साड़ा वी ते मान ऐ
ज़ान तो प्यारी धीये तू ते साडी शान ऐ ,
करके तरक्कीयां तू ना साडी कुल दा,
अंबरा दे विच चमकाईं
जी सदक़े तू भावें कर लै पढ़ाइयां,
मेरी पग नू दाग़ ना लाईं ,
तूही मेरा पुत्त ए तू ही मेरी धी नी.....

किन्ने फड़ लैणा मुँह ज़ुल्मी समाज दा
रखीं तू ख़्याल बुढ्ढी माँ दी नी लाज़ दा
बूढ़े माँपे मर ज्योन्दे जग दीयां तोहमतां नाल
तोहमतां तों सानु तू बचाईं
जी सदक़े तू भावें कर लै पढ़ाइयां
मेरी पग नू दाग़ ना लाईं
तूही मेरा पुत्त ए तू ही मेरी धी नी.....

चक्क मुंगलानी मंगी वीर तेरा इक नी
तेरे फ़िकरा चे ओदा लगदा नी चित्त नी
करदे हां मान सारे पिंड तेरे वीर दा
मान नु ना मिट्टी चे रूलाईं
जी सदक़े तू भावें कर लै पढ़ाइयां
मेरी पग नू दाग़ ना लाईं
तूही मेरा पुत्त ए तू ही मेरी धी नी.....

प्रेषक :
कुमार सुनील फोक सिंगर
हिसार हरियाणा
फोन नंबर 98123 - 01662
श्रेणी
download bhajan lyrics (53 downloads)