तेरी कमली हो गयी आ तैनू तरस जरा ना आया

तेरी कमली हो गयी आ, तैनू तरस जरा ना आया,
तेरे जोगी रह गयी हां, तैनू तरस ज़रा ना आया ।

माफ़ करी श्यामा मैनु, कित्ते जो कसूर वे,
मारदे ने ताने लोकी आवी तू जरूर वे,
वे मैं कल्ली रह गयी हां, तैनू तरस ज़रा ना आया ॥
तेरे जोगी रह गयी हां...

हे बंसीधर हे ब्रज रसिया, हे बांके बिहारी मीत पिया,
हे चपल नयन, गिरिघर नागर, हे कुञ्ज बिहारी मीत पिया ।
हे गोपी जीवन प्राण पति, हे रास बिहारी मीत पिया,
हे चतुर शिरोमणि बनमाली, हे छैल बिहारी मीत पिया ।
हां हां कब नैयन के पथ से तुम प्रेम पथिक बन आओगे,
कब बिना मोल की दासी को हरी चरनन से लिपटाओगे ।

इक्को गल्ल माड़ी जित्थो लगदा ए दर वे,
मुरली बजादे शयामा रूसिया ना कर वे ।
बाकी सब कुछ सह गयी आ, तैनू तरस ज़रा ना आया ॥
तेरे जोगी रह गयी हां...

मैं ता फ़िर गलिआ च हो के शदायी वे,
दस केहड़े जन्मा दी दिल उत्ते लायी वे ।
तेरा की लै गयी आ, तैनू तरस ज़रा ना आया ॥
तेरे जोगी रह गयी हां...
download bhajan lyrics (862 downloads)