दर से तेरे मिलती है खुशियां

दर से तेरे मिलती है खुशियां मिलती नहीं संसार में ,
तेरी दया से मिट जाते है जीवन के सब पाप रे,
दर से तेरे मिलती है खुशियां मिलती नहीं संसार में ,

तेरे हाथ में जीवन नाइयाँ तू ही बाबा मेरा खवइया,
बहती रही जो जन्म जन्म से नाइयाँ लगाओ किनारे,
दर से तेरे मिलती है खुशियां मिलती नहीं संसार में ,

जो भी तेरे द्वारे आया उस ने तेरा प्यार पाया,
तेरा दर वो दूर यहाँ से हो जाते है अंधेरे
दर से तेरे मिलती है खुशियां मिलती नहीं संसार से,
तेरी दया से मिट जाते है जीवन के सब पाप रे,

तेरी शरण हम आये बाबा तू ही काशी तू ही काबा,
काया जाये हज तीर्थ करने जो तू पास हमारे,
दर से तेरे मिलती है खुशियां मिलती नहीं संसार से,
तेरी दया से मिट जाते है जीवन के सब पाप रे,
श्रेणी