पाईयां तेरे दर तो मैं रेहमता हज़ारा

पाईयां तेरे दर तो मैं रेहमता हज़ारा
दिन रात सतगुरु तेरा शुक्र गुजारा

कौड़ीआं दा मुल नहीं सी, हीरेया दा पै गया
जड़ो दा मैं दाता तेरे चरना च बह गया
राम राम बोलण मेरे दिल दिया तारां
शुक्र गुजारा..

रेहमता नु देख अखां हंस पईया रोंदिया
साडे कोलो दाता तेरिया सिफ्ता ना होन्दिया
क्यों ना दाता तेरे उत्तो तन मन वारा
शुक्र गुजारा..

दर दर रुलदे सी, किसे ना सम्भालेया
मेहर किती सतगुरु, चरणा नाल ला लया
चंगे वेले सुन लईया सड़िआ पुकारा,
शुक्र गुजारा..

तेरिया ता तू ही जाने जाना की नादान मैं
गल गल डूबा होया विच अज्ञान मैं
विषय वीकारा फस, टारा पया मारा
शुक्र गुजारा..

जिंदगी दे जीने दा, आया कोई वल ना
होया मुसीबता दा, तेरे बिना हल ना
तैनू छड़ दातिये मैं किस नु पुकारां,
शुक्र गुजारा..

सुख देओ दुःख देओ झोली विच्च पा लवां
दुख नु वी दातेया मैं सुखा च राला लवां
जेह्ड़ी वी घडी आवे हस के गुजारा,
शुक्र गुजारा..
download bhajan lyrics (1037 downloads)